Hai Preet Jahan Ki Reet Sada

 

है प्रीत जहाँ की रीत सदा – (Mahendra Kapoor, Purab Aur Paschim)

Movie/Album: पूरब और पश्चिम (1970)
Music By: कल्याणजीआनंदजी
Lyrics By: इन्दीवर
Performed By: महेंद्र कपूर

जब ज़ीरो दिया मेरे भारत ने
भारत ने मेरे भारत ने 
दुनिया को तब गिनती आयी 
तारों की भाषा भारत ने 
दुनिया को पहले सिखलायी 

देता ना दशमलव भारत तो 
यूँ चाँद पे जाना मुश्किल था
धरती और चाँद की दूरी का

अंदाज़ा लगाना मुश्किल था


सभ्यता जहाँ पहले आयी
पहले जनमी है जहाँ पे कला 
अपना भारत वो भारत है 
जिसके पीछे संसार चला
संसार चला और आगे बढ़ा
यूँ आगे बढ़ा, बढ़ता ही गया 
भगवान करे ये और बढ़े 
बढ़ता ही रहे और फूलेफले 

है प्रीत जहाँ की रीत सदा
मैं गीत वहाँ के गाता हूँ
भारत का रहने वाला हूँ 
भारत की बात सुनाता हूँ 

 

कालेगोरे का भेद नहीं 
हर दिल से हमारा नाता है 
कुछ और आता हो हमको 
हमें प्यार निभाना आता है 
जिसे मान चुकी सारी दुनिया 
मैं बात वो ही दोहराता हूँ 
भारत का रहने

जीते हो किसी ने देश तो क्या
हमने तो दिलों को जीता है 
जहाँ राम अभी तक है नर में 
नारी में अभी तक सीता है 
इतने पावन हैं लोग जहाँ 
मैं नितनित शीश झुकाता हूँ 
भारत का रहने

इतनी ममता नदियों को भी 
जहाँ माता कह के बुलाते है 
इतना आदर इन्सान तो क्या
पत्थर भी पूजे जातें है 
इस धरती पे मैंने जनम लिया 
ये सोच के मैं इतराता हूँ 
भारत का रहने

 

Credits:

hai preet janha ki reet sadaa karaoke

INavanitha Official