साथी न कारवां है 

ये तेरा इम्तिहां है 2 

  

यूँ ही चला चल दिल के सहारे 

करती है मंज़िल तुझको इशारे 

 

 

देख कहीं कोई रोक नहीं ले तुझको पुकार के 

ओ राही, ओ राही…

  

 

नैन आँसू जो लिये हैं 

ये राहों के दीये हैं   2 

  

लोगों को उनका सब कुछ दे के 

तू तो चला था सपने ही ले के 

  

 

कोई नहीं तो तेरे   अपने हैं 

सपने ये प्यार के 

ओ राही, ओ राही… 

  

  

सूरज देख रुक गया है 

तेरे आगे झुक गया है 

  

जब कभी ऐसे कोई मस्ताना 

निकले है अपनी धुन में दीवाना 

  

 

शाम सुहानी बन जाते हैं दिन इंतज़ार के 

ओ राही, ओ राही… 

 

 

CREDITS

Ruk Jaana Nahi Tu Kahin Har Ke – Imtihan – Full Karaoke